Saturday, October 30, 2010

बाबा मुझे माफ करो

मेरी यह पोस्ट शायद कुछ लोगों को नाराज कर सकती है। हो सकता है कि कुछ लानते-मलानतें भी भेजें। पर मैं खुद को रोक नहीं सका हूं। सोचा तो यह था कि पुणे से लौटते ही अच्छे-अच्छे संस्मरण लिखूंगा और ढेर सारी बातें शेयर करूंगा। पर वापस लौटते समय लिए गए एक निर्णय से काफी दुखी हूं।
बात 24 अक्टूबर की है। इसी दिन रात को मनमाड़ से दिल्ली तक मेरी ट्रेन थी। सोचा दिनभर खाली क्या करेंगे। शनि सिंगणापुर और शिरडी में घूम आते हैं (दर्शनों की बात तो बाद में ही सोचते हैं)। पिछले 14 दिनों की थकान को साइड में रखकर भारी बैग उठाए मैं अपने मेरठ के एक मित्र के साथ चलने को तैयार हो गया। बस और ऑटो से धक्के खाते हुए सबसे पहले शनिदेव के द्वारे पहुंचे। समझिए की शनिदेव की कृपा शुरू हो गई। ऑटो वाले ने शनिदेव मंदिर से दूर एक मैदान में छोड़ दिया। यहां हमारी तरह हजारों लोग आए हुए थे। हमें देखते ही एक दुकानदार दौड़ा आया और हमारा सामान अपनी दुकान में रखवा दिया। हम तो चाहते ही यही थे कि कहीं सामान रखने की जगह मिल जाए। फिर जाएंगे दर्शन करने। पर सामान रखवाने की कीमत मुझे चार सौ रुपए देकर चुकानी पड़ी। बदले में क्या मिला, दो-चार फोटो और दो सौ ग्राम सरसो का तेल। बंदे ने बताया कि ये तेल शनिदेव को चढ़ाना है। इससे वो खुश होते हैं।
मैंने पूछा दादा (यहां रहते-रहते हर किसी को दादा कहने की आदत हो गई), हम तो अपने शहर में तेल नहीं लेकर जाते। अगर लें भी जाएं तो एक कटोरी चढ़ा देते हैं। हम इतना तेल ले जाकर क्या करेंगे।
उसने हैरान होते हुए कहा, ये देखिए बाऊजी। लोग पांच-पांच लीटर तेल लेकर जा रहे हैं और आप दो सौ ग्राम तेल चढ़ाने में हिचक रहे हैं।
मैंने ज्यादा बहस नहीं की और स्नान करके रीति अनुसार धोती पहनकर चल दिया शनिदेव के द्वारे।
लंबी लाइन। चलते-चलते पैर थक गए। फर्श पर तेल ही तेल था। बुरी तरह टूट चुका था। वो तो अच्छा हुआ गिरा नहीं। सोच रहा था, पानीपत से क्या मैं यह तेल चढ़ाने यहां आया हूं। क्या कर रहा हूं मैं...।
आखिर में शनिशीला के नजदीक पहुंच ही गया। हजारों हजार लोग तेल चढ़ाने में जुटे हुए थे। हम सुबह ग्यारह बजे पहुंच गए थे वहां। सुबह से इतनी भीड़ थी तो अंदाजा लगाया जा सकता है कि दिनभर में लाखों लीटर सरसों का तेल चढ़ जाता होगा। जिस देश में चालीस करोड़ जनता बीस रुपए रोजाना से कम पर गुजारा करती है, उस देश के देवता लाखों लीटर तेल पीकर संतुष्ट होते हैं।
मेरा मूड खराब हो चुका था और मैंने आधे मन से शीला पर थोड़ा तेल चढ़ाया और पैकेट वहीं रखकर आगे निकल आया।
जाते-जाते तय कर लिया, दोबारा कम से कम तेल चढ़ाने तो नहीं आऊंगा।
बाहर आकर उसी दुकान पर कपड़े बदले और निकल चले शिरडी। सवारियों से भरी निजी गाड़ी में हम भी फेवीकोल की तरह चिपक कर बैठ गए। गाड़ी वाले ने बताया, एक घंटे तक पहुंच जाएंगे शिरडी। मगर हाय री किस्मत। थोड़ी दूर चलते ही दिखाई दिया कि आरटीओ का छापा था। गाड़ी वाले ने तुरंत स्टेयरिंग घुमाया और पहिए कच्चे रास्ते पर दौडऩे लगे। गाड़ी उछलती-कूदती कच्चे रास्ते पर दौड़ती हुई तीन घंटे बाद हमें शिरडी तक आखिर ले ही गई।
बीच में मन ही मन डॉयलॉग मार चुका था, उम्मीदों का चिराग जलाए रखना...। कभी तो रात होगी।
खैर, शाम से पूर्व हम शिरडी पहुंच गए। यहां उतरते ही सिंगणापुर की तरह एक बंदा आया और हमारा सामान रखवाने की बात करने लगा। मगर इस बार हमने सामान दुकान पर नहीं बल्कि क्लॉक रूम में रखवाया। सात रुपए का टिकट कटवाया। वो बंदा हमें अपनी दुकान पर ले गया। यहां पर भी डेढ़ सौ रुपए की पर्ची कटवाई और प्रसाद का थैला लेकर हम चल दिए दर्शन करने।
जाहिर है तन टूट चुका था और मन भी आधा फूट चुका था। फिर भी अपने मित्र के साथ कदमताल करते हुए चलते रहे। मेरा मित्र काफी धार्मिक ह्रदय का बंदा है। शनि मंदिर में भी जय शनिदेव जय शनिदेव करते आंखें मूंदे हुए चलता रहा। यहां भी साईं भक्ति में कंपलीट डूबा हुआ था। मैं भी ईश्वर को मानता हूं, पर आवाज पता नहीं कहां गायब हो जाती है।
थोड़ी आगे पहुंचे ही थे कि अंदर जाने का रास्ता दिखाई दिया। इससे पहले कि अंदर जाते, सिक्योरिटी गार्ड ने रोक लिया।
भाई कहां जा रहे हो। यहां वीआईपी पास मिलते हैं। अगर आपको पास लेकर दर्शन करना है तो जाओ, नहीं तो आगे से दर्शन करो।
मैं चौक उठा। दादा ये क्या माजरा है।
भाई साहब, सौ रुपए देकर पास मिलता है। पास लोगे तो पंद्रह मिनट में नंबर आ जाएगा और नहीं लोगे तो डेढ़ घंटे में नंबर आएगा।
रोम-रोम तो कह रहा था कि सौ रुपए दो और दर्शन करके चलते बनो।
पर अगले ही पल यह ख्याल मन से निकल गया। शनि मंदिर से जो खट्टा अनुभव लेकर चला था, यहां भी दिल और टूट गया।
सौ रुपए देकर साई बाबा के दर्शन। क्यों? जिसके पास सौ रुपए नहीं है वो बेचारा लाइन में लगा रहे। तड़पता रहे दर्शनों को। वाह रे साई बाबा। यहां भी अमीरों की सुनवाई।
मन तो किया यहीं से वापस लौट जाऊं। पर नहीं कर सका। वही हुआ जो सिक्योरिटी गार्ड ने बताया था। बिना पास के लाइनों में लगे हुए भक्तों का नंबर डेढ़ घंटे में आया जबकि पास लेकर आए भक्त हमारे सामने से विशेष गेट खुलवाकर दर्शन करके चलते बने।
मन ही मन गीत गाने लगा...

जरा मुल्क के रहबराओं को बुलाओ

ये कूचें ये गलियां ये मंजर दिखाओ

जिन्हें नाज है हिंद पर उनको लाओ

जिन्हें नाज है हिंद पर वो कहां हैं?

कहां हैं, कहां हैं, कहां हैं?

मेरे साथ ही कुछ बुजुर्ग भी चल रहे थे। मन में ख्याल आया कि अगर वीआईपी पास बनाना ही है तो इन बुजुर्गों का फ्री क्यों नहीं बनाते। ये भी किया जा सकता है जो बच्चे अपने माता-पिता को लेकर आएं, उनका पास फ्री बनाया जाएगा। कम से कम पास के ही बहाने बच्चे अपने माता-पिता को लेकर तो आ सकते हैं।
मरते-मरते किसी तरह दर्शन किए और बाहर निकले। मैं आगे चल रहा था अपने मित्र से बात करते हुए। बात करते-करते मैं तो आगे बढ़ गया, जब पीछे मुढ़कर देखा तो मित्र था ही नहीं। पीछे गया तो मित्र महोदय एक मंदिर में साष्टांग प्रणाम किए हुए लेटे हुए थे। मैं बाहर ही बैठ गया और मन ही मन प्रार्थना की कि मुझ दुष्ट का तो जो होगा सो होगा, पर मेरे मित्र को साई बाबा जरूर कामयाबी देना।
जाते-जाते यहां भी तय किया, दोबारा नहीं आऊंगा। कम से कम जब तक ये सौ रुपए के वीआईपी पास दर्शन खत्म नहीं होते।
ह्रदय इतना टूट चुका था कि तय किया कि घर जाकर प्रसाद भी नहीं बांटूंगा। क्यों बांटू प्रसाद। इसका मेरे अंतर्मन ने कोई जवाब नहीं दिया।
आप निराश मत होइए और मेरे शब्दों से कोई धारणा भी मत बनाइएगा। अगली पोस्ट में अच्छी-अच्छी बातें बताऊंगा। मैं 10 अक्टूबर से 23 अक्टूबर तक पुणे रहा। यहां एनएफएआई और एफटीआई की तरफ से सीने कोरसपोंडेट कोर्स का आयोजन किया गया था। अगली पोस्ट में इनका जिक्र करूंगा।

14 comments:

अविनाश वाचस्पति said...

आंखें खुलने और खोलने वाली पोस्‍ट। पर जिनके आंखें ही नहीं हैं, उन पर कोई असर नहीं होगा। पानीपत से तेलपत तक का सफर। आस्‍था से अंधविश्‍वास की खुलती पोल है, भगवान का नहीं, भक्‍तों का ही इसमें अहम रोल है। यह ऐसा घोल है जो जायका बिगाड़ देता है पर न जाने कितनों का भाग्‍य रोजाना संवार देता है। तेल जो चढ़ता है, वो कई बार बिकता है, फिर भी जब बेचने वाला नहीं फिसलता तो उस पर चलने वाला कैसे फिसलेगा।

falsafa said...

रवि जी, साईं बाबा के दर्शन करने का आपका अनुभव तो बड़ा कड़ुवा रहा। मैं भी ओबामा साहब के पहुंचने से पहले मुंबई जा रहा हूं। साईं बाबा के दरबार जाने का प्लान भी है। लेकिन आपकी यात्रा गाथा सुनकर थोड़ा हिचकिचा रहा हूं। खैर, बाबा बुलाएंगे तो पहुंच ही जाउंगा। आपके अगले पोस्ट का इंतजार रहेगा।

rashmi ravija said...

किसी भी धार्मिक स्थल का आजकल यही हाल है.
शनि शिगनापुर का तो सचमुच समझ में नहीं आता....फिर भी अंध श्रद्धा के साथ लोग तपती धूप में घंटो खड़े रहते हैं...शिरडी में कम से कम व्यवस्था तो अच्छी है. और सौ रुपये में वी.आइ.पी. दर्शन की बात तो सस्ती ही लग रही है...मैने सुना था ५०० रुपये है.
१०० रुपये में शायद.. ३ घंटे के बदले एक घंटे ही लगना पड़ता.

वैसे साईं बाबा के दर्शन बिना क्यू में लगे भी किए जा सकते हैं. वह मुख दर्शन कहलाता है.बस थोड़ी दूर से ही दर्शन कर सकते हैं. और कुछ चढ़ावा नहीं चढ़ा सकते. पर जितनी देर चाहे मन खड़े हो सकते हैं. लाइन में लगने पर तो एक मिनट भी मूर्ति के सामने खड़े नहीं रहने दिया जाता.
इसलिए अगर अगली बार इच्छा हो तो, मुख दर्शन के लिए ही जाइएगा...

और संस्मरण वाली अगली पोस्ट कहाँ है??..जल्दी लिख डालिए .

आशीष/ ਆਸ਼ੀਸ਼ / ASHISH said...

हां तो धवन जी,
पहले तो ये के आप बन्दे हमारे टाईप के लगते हैं....
अच्छा है!
दूसरा ये साईं बाबा इज़ इन फैशन! ही हैस रेप्लेस्ड गणेशा!
अच्छा है!
तीसरा ये बहुत स्वाद आया!
अच्छा है!
चौथा ये के आपको बुकमार्क कर लिया है!
अच्छा है!
पांचवा ये के अब मुझे भी जूते-ला(न)तें पड़ेंगे!
अच्छा है!
आशीष
----
पहला ख़ुमार और फिर उतरा बुखार!!!

हरकीरत ' हीर' said...

@ मैं भी ईश्वर को मानता हूं, पर आवाज पता नहीं कहां गायब हो जाती है।
@ मुझ दुष्ट का तो जो होगा सो होगा, पर मेरे मित्र को साई बाबा जरूर कामयाबी देना।

हा...हा...हा....बहुत खूब .....!!

बहुत रोचक रही आपकी यात्रा तो .....
यहाँ कामख्या मंदिर के दर्शन में भी १०० रुपये का पास है ....

shikha varshney said...

बात तो एकदम ठीक कही है.सभी धार्मिक स्थलों का यही हाल है .बिना vip पास के जाना बेकार है :)

Babli said...

आपको एवं आपके परिवार को दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें!

उस्ताद जी said...

3/10

आप भी बुरा न मानें तो यही कहूँगा कि लकीर के फकीर बने भक्तों को जितना ज्यादा तकलीफ हो, उतना ही अच्छा है समाज के लिए.
"भगवान् हर जगह है" यह बात प्रत्येज जाहिल से जाहिल इंसान भी जानता है. इसके बावजूद भी अगर कोई पाखण्ड और अन्धानुकरण करे तो क्या कहा जाए.
3 अंक आपकी लेखन शैली के लिए, जो कि रोचक है.

Mrs. Asha Joglekar said...

आपके अनुभव हमारे अनुभवों से मिलते जुलते हैं । पर हम भी तो सुंदर प्राकृतिक स्थलों को देखने के बजाय मंदिरों के चक्कर लगाना ज्यादा पसंद करते हैं इस मानसिकता के लिये दोषी तो हम ही हुए ।

सतीश सक्सेना said...

श्रद्धा कमज़ोर दिलों को बड़ी राहत देती है अतः यह स्थल आवश्यक हैं ! लोग अपनी अपनी समझ और मान्यताओं के अनुसार इन स्थानों पर जाते हैं, और लाभ भी लेते हैं !
आप भैरव बाबा के पास जाने से चूक गए नहीं तो लेख पूर्ण हो जाता :-)

मैं इन स्थलों से काफी दूर रहता हूँ उसका कारन इनके प्रति अश्रद्धा नहीं बल्कि वे लोग हैं जो इन स्थलों के संरक्षक और पुजारी हैं ! पैसे के लालची लोगों से घिरे यह स्थल निस्संदेह देव रहित हैं ...चारो तरफ भूत प्रेत पैसे कमाने की लालसा के साथ मिलते हैं और देव इन्हें कुछ नहीं कहते ! :-(

आपका विवरण मनोरंजक रहा और अच्छा लगा

जितेन्द्र ‘जौहर’ Jitendra Jauhar said...

एकदम सच ही तो कहा है आपने! तमाम विसंगतियाँ मैंने भी देखी हैं...आपकी पोस्ट पढ़कर मुझे भी याद आया कि एक अधूरा यात्रा-संसमरण पड़ा है, मेरी डायरी में...शीघ्र पूरा करूँगा!

सतीश सक्सेना said...

आप इम्प्रेसिव हैं रवि !शुभकामनायें !
आपके इस लेख से प्रेरणा लेकर अपने अनुभव आधारित एक पोस्ट लिखी है मैंने यह स्थल निस्संदेह देव रहित हैं
http://satish-saxena.blogspot.com/2010/12/blog-post_04.html

संजय भास्कर said...

धवन जी,
नमस्कार !
आपका विवरण मनोरंजक रहा और अच्छा लगा

संजय भास्कर said...

वाह पहली बार पढ़ा आपको बहुत अच्छा लगा.
आप बहुत अच्छा लिखते हैं और गहरा भी.
बधाई.

संजय भास्कर
फतेहाबाद
हरियाणा